0 0
Read Time:2 Minute, 54 Second

कोविड-19 से जुड़ी एक जानकारी सामने आई है जिसके अनुसार अस्पताल में भर्ती कोविड-19 के मरीजों को डेक्सामेथासोन जो कि एक सस्ता और व्यापक रूप मे इस्तेमाल कीजिए जाने वाला स्टेरॉयड है जो कोविड-19 के रोगियों के जीवन बचाने में सक्षम होने वाली पहली दवा बन गई है। वैज्ञानिक इसे ,”प्रमुख सफलता”के रूप में देख रहे हैं। मंगलवार को परीक्षण दिखाते हुए कहा गया कि अस्पताल में भर्ती कोविड-19 के मरीजों को जेनेरिक स्टेरॉइड दवा डेक्सामेथासोन कि कम खुराक देने से सबसे गंभीर मामलों में से एक तिहाई के आसपास मृत्यु दर में कमी आई है।coronavirus-drugs

डेक्सामेथासोन का उपयोग अन्य बीमारियों में सूजन को कम करने के लिए किया जाता है लेकिन अब शोधकर्ताओं का मानना है कि इसके उपयोग से कोविड-19 के रोगियों की मृत्यु दर में एक तिहाई के आसपास की कमी आई है। मार्टिन लैंडरे जोकि ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के प्रोफेसर है और इस परीक्षण का सह नेतृत्व कर रहे हैं जिसे रिकवरी परीक्षण के रूप में जाना जा रहा है। शोधकर्ताओं का कहना है की यह एक परिणाम है जो दिखाता है कि अगर कोविड-19 के मरीज वेंटिलेटर पर हैं या ऑक्सीजन पर हैं और उन रोगियों को डेक्सामेथासोन दिया जाता है तो यह जीवन को बचाएगा और यह कम लागत में ऐसा करेगा

मार्टिन लैंडरे के सह-मुख्य अन्वेषक, पीटर हॉर्बी का कहना है कि, डेक्सामेथासोन – सूजन को कम करने के लिए अन्य बीमारियों में व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला एक सामान्य स्टेरॉयड – ” यह केवल एकमात्र दवा है जिससे अब तक मृत्यु दर कम करने के लिए दिखाया गया है – और यह इसे काफी कम करता है।” उन्होंने कहा “यह एक बड़ी सफलता है,”।

शोधकर्ताओं का कहना है कि इसके परिणामों से पता चला है कि दवा को तुरंत कोविड-19 जैसी महामारी रोग के गंभीर मामलों के रोगियों को देनी चाहिए।

अपडेट पाने के लिए आप हमसे फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम पर भी जुड़ सकते हैं

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

By